समर्पण +भाव =प्रसन्नता

प्रसन्नता एक ऐसा विषय है जिसका होना या न होना पूर्णतया आप पर निर्भर करता है। लेकिन हम मनुष्य कभी भी इस बात पर विश्वास नहीं करते, हम हमेशा ही अपने अप्रसन्न मन और व्यवहार के लिए दूसरों को दोषी मानते हैं। आपकी प्रसन्नता आपकी स्वयं की उपज है और उसका जीवन में अनुपस्थित होना… Continue reading समर्पण +भाव =प्रसन्नता

Published
Categorized as Blog

भक्ति या भाव- २

हम अपनी धुन में चले जा रहे हैं अचानक से सामने आ रही तेज रफ्तार गाड़ी आप के बगल से निकल जाती हैं आप संभल पाएं उससे पहले ही आपके मुंह से निकलता है, हे भगवान बच गए। भगवान, ईश्वर हमेशा हमारे अंदर रचा बसा एक ऐसा भाव है जो वातावरण में हवा की तरह… Continue reading भक्ति या भाव- २

Published
Categorized as Blog

भक्ति या भाव

अक्सर ऐसे लोगों से मिलते हैं जो सिर्फ इसलिए घर में भगवान की मूर्ति या फोटो नहीं रखना चाहते क्योंकि उन्हें लगता है कि वे प्रतिदिन उसकी पूजा पाठ नहीं कर पाएंगे। इस विषय पर सोचने से पहले मैं आपको एक कहानी (जो सच्ची है) सुनाना चाहती हूं। उनके घर में 12-13 वर्षों से लड्डू… Continue reading भक्ति या भाव

Published
Categorized as Blog

The significance of Chhath Puja

Chhath puja is an exceptional Indian celebration devoted to the sun-oriented divinities Surya and Shashthi Devi. It is commended to express gratitude toward them for supporting life on the planet. Accepted to be the lord of light-Surya and Shashthi Devi are adored on this day for advancing life, prosperity, and thriving of individuals. Commended seven… Continue reading The significance of Chhath Puja

Utthana Ekadashi – Dev Prabodhini – Importance of Dev Uthani Gyaras – Hari Prabodhini Ekadashi

Utthana Ekadasi or Prabodhini Ekadashi, (also known as Dev Uthani Ekadasi and Hari Prabodhini) is enshrined during the waxing phase of the moon in the month of Kartik (October – November). In 2021, the date of Utthana Ekadasi or Dev Prabodhini Ekadashi is November 15. The significance of Dev Prabodhini Ekadasi narrated to Sage Narada… Continue reading Utthana Ekadashi – Dev Prabodhini – Importance of Dev Uthani Gyaras – Hari Prabodhini Ekadashi